होम / स्वास्थ्य / जीवन कें सत्य / बाल विकास और शुरुआती सीख
शेयर
Views
  • State: Open for Edit

बाल विकास और शुरुआती सीख

इ आलेख मे बाल विकास आ शुरु आती सीख मे विस्तार सें जानकारी देल गेल छै.

बचपन कें पहिले आठ साल बेहद महत्वपूर्ण होयत छै,खासकर पहिले तीन साल। इ समय भविष्य कें स्वास्थ्य, बढ़त आ विकास कें बुनियाद होयत छै. दोसर कोनों समय के मुकाबले अइ दौरान बच्चा तेजी सं सीखएयत छै. शिशु आ बच्चे तब आ जल्दी विकसित आ कहीं बेसि तेजी सं सीखएयत छै , जखन ओकरा प्यार आ लगाव, ध्यान, बढ़ावा आ मानिसक उत्तेजना कें संग ही पोषक भोजन आ स्वास्थ्य कें अच्छी देखभाल भेटहि छै. सभ बच्चाक कें जन्म कें समय कानूनी पंजीकरण, स्वास्थ्य कें देखभाल, अच्छा पोषण, शिक्षा आ नुकसान कें भरपाई, बदसलूकी व भेदभाव सं सुरक्षा पावा कें अधिकार छै. इ सुनिश्चित करनाय माता-पिता आ सरकाराक कें फर्ज छै की अइ अधिकार कें सम्मानित, सुरिक्षत आ पूरा कैल जा रहल छै या नहि.

बाल विकास आ शुरुआती सीखय कें मुख्य संदेश -१

पहिले आठ साल मे, आ खास कं पहिले तीन साल कें दौरान, बच्चाक कें देखभाल आ ध्यान बहुत जरूरी छै आ एकर असर बच्चाक कें पूरा जीवन पर पड़एय छै.

शुरु आती साल मे देखभाल आ ध्यान बच्चा कें फलअय-फूलअय मे मदद देय छै. बच्चाक कें थामनाय, गोद लेनाय आ बात करनाय ओकर बढ़त कें उकसवय छै. मां कें करीब आ भूखा होयते ही ओकरा मां कें दूध मिलनाय, बच्चा मे सुरक्षा कें भावना भरएय कें काज करएयत छै. बच्चा कें मां कें दूध कें जरूरत पोषण आ सुख-चैन दूनू कें लेल होयत छै.

लड़का हो या लड़की, दूनू कें एक जैना शारीरिक, भावनात्मक, मानिसक आ सामाजिक जरूरत होयत छै. सीखएय कें क्षमता दूनू मे बराबर होयत छै. दुलार, ध्यान आ बढ़ावा कें जरूरत दूनू कें होयत छै.

छोट बच्चा काइन कं अपन जरूरतें बतवय छै. बच्चा कें काइन लै पर तुरंत हरकत मे ऐनाय, ओकरा उठानाय आ मजा सं बात करनाय ओय मे विश्वास आ सुरक्षा कें समझ पैदा करतय.

जइ बच्चाक मे खून कें कमी हाये, कुपोषित होय या बार-बार बीमार पडएय़ जायत होय, ओ स्वस्थ बच्चा कें मुकाबले डर आ परेशानी कें शिकार आसानी सं भ सकय छै आ जे ओय मे खेलनाय-कूदनाय, खोजबीन करनाय या दोसर सं मिलय-जुलय कें चाहत कें अभाव उत्पन्न करतय.

ऐहन बच्चाक कें खेनाय -पिनाय कें लेल विशेष ध्यान आ बढ़ावय कें जरूरत होयत छै.

बच्चाक कें भावनाक सच्ची आ ताकतवर होयत छै. अगर बच्चा किच्छू कर पावय या जे अपन पसंद कें चीज पावय मे असमर्थ छै, तं ओ कुंठित भ सकय छै. बच्चा अक्सर अजनबी लोगक सं या अंधेरा सं डरएयत छै. जय बच्चाक कें हरकतक पर हसल जायत छै ओकरा सजा देल जायत छै, ओ पइग भ कं शर्मीले आ अपन भावना सामान्य रूप सं राखय मे असमर्थ भ सकएयत छै. देखभाल करएय वाला अगर बच्चाक कें मन कें भावनाआक कें प्रति धीरज आ हमदर्दी राखल जायत छै त ओकर प्रसन्नचित्त, सुरक्षित आ संतुलित तरीक ा सं बढ़एय कें संभावना अधिक होयत छै.

शारीरिक सजा या हिंसा कें प्रदर्शन बच्चा कें विकास कें नुकसान पहुंचा सकय छै. गुस्सा मे जिन बच्चाक कें सजा देल जायत छै, खुद ओकरा हिंसक होय कें संभावना बेसि बढ़एय जायत छै. स्पष्ट बात की बच्चा कें कि करबाक चाही, ठोस नियम की क्या नहि कराबक चाही तथा निक व्यवहार कें शाबाशी, बच्चा कें समुदाय आ परिवार कें खरा आ उत्पादक हिस्सा बनाएल जै कें कहीं अधिक कारगर तरीका छै.

दूनू माता-पिता कें साथ ही परिवार कें दोसर सदस्यक कें सें हो बच्चा कें देखभाल मे शामिल कैल जै कें जरूरत छै. पिता कें भूमिका खास तौर पर महत्वपूर्ण होयत छै. पिता प्यार, लगाव आ उत्तेजना पावय कें बच्चा कें जरूरत पूरी करएय कें प्रयास कें सुनिश्चित कयर सकय छै की बच्चा कें निक शिक्षा, अच्छा पोषण भेटहि आ ओकर सेहत कें सही देखभाल होय. पिता सुरक्षित आ हिंसा सं मुक्त वातावरण कें सें हों सुनिश्चित कयर सकय छै. पिता घर कें काज मे सें हों हाथ बंटा सकएय छै, खास कं तखन जखन मां बच्चा कें दूध पिला रहल होय.

बाल विकास आ शुरुआती सीखय कें मुख्य संदेश-२

पैदा हुअ कें साथ ही बच्चा तेजी सं सीख लगय छै. अगर ओकरा पौष्टिक भोजन आ सेहत कें सही देखभाल कें साथ दुलार, ध्यान आ शाबासी भेटहि त ओ तेजी सं बढ़एयत छै आ जल्दी सीखय छै.

अपन सं चिपका कं रखनाय आ पैदा हुअ कें एक घंटे कें भीतर बच्चा कें मां कें दूध पिलाऊं, शिशु कें बेहतर वृद्धि आ विकास मे मदद करएयत छै तथा मां कें साथ बच्चा कें खास रिश्ता कायम करएय छै.

छूनाय, सुननाय, सूंघनाय, देखनाय तथा चखनाय, सीखय कें ओ औजार छै, जइ सं बच्चा अपन आसपास कें दुनिया कें परखने की कोशिश करएय छै.

जखन बच्चा सं बात कैल जायत छै , ओकरा छुअल जाएयतता छै आ गला लगैल जायत छै, आ जखन ओ जाने-पहचाने चेहरे देखयत छै, परिचित आवाज सुनएयत छै आ तरह-तरह के चीज थामय छै त ओकर दिमाग तेजी सं बढ़यत छै. जन्म सें ही जखन ओ प्यार आ सुरक्षा कें अनुभव करएयत छी आ जखन लगातार खेलएयत छै आ परिवार कें लोग सं घुलयत-मिलयत छै, त तेजी सं सीखयत छै. सुरक्षा कें अनुभव करएय वाला बच्चाक आमतौर पर स्कूल मे अव्वल होयत छै आ जीवन कें कठिनाइया कें सामना आसानी सं करएयत छै.

मांगा जै पर पहिले छह माह तइक केवल मां कें दूध, छह माह कें उम्र पर सुरक्षित आ पौष्टिक भोजन मिलय कें सही समय पर शुरु आत, आ दू साल या ओय सं बेसि समय तइक मां कें दूध का सेवन बच्चा कें पोषण आ स्वास्थ्य लाभ उपलब्ध करवय छै, साथ ही साथ देखभाल करएय वाला सं लगाव आ संबंध बनवएय छै.

बच्चा कें लेल विकास आ सीख कें सबसे जरूरी रास्ता दोसर सं ओकरा मेलजोल होयत छै. माता-पिता आ देखभाल करएय वाला बच्चे कें संग जतैक बात करवय आ ओय पर ध्यान देवय, बच्चा ओतवे तेजी सं सीखत. नवजात आ छोटे बच्चा कें सामने माता-पिता आ देखभाल करय वाला कें बात करनाय, पढ़नाय आ गावा चाही. बच्चा अगर शब्द समझ लायक नहि होय त सें हों इ‘बातचीत’ ओकर भाषा आ सीखय कें क्षमता कें विकास करएयत छै.

देखभाल करएय वाला बच्चा कें देखनाय, सुननाय, पकड़नाय और खेलनाय कें लेल नया आ दिलचस्प चीज द क ओकरा सीखय आ बढ़य मे मदद कयर सकय छै.

शिशुअक आ छोट बच्चाक कें लंबे समय कें लेल अकेला नहि छोड़बाक जाना चाही. इ ओकर शारीरिक आ मानिसक विकास कें गति कें धीमा करएय दयत छै.

लड़कियक कें सें हो भोजन, ध्यान, लगाव आ देखभाल कें ओतवे ही जरूरत होयत छै, जतेक लड़का कें. सीखनाय या किच्छू नया कहला पर सभ बच्चा कें बढ़ावा आ ओकर तारीफ कै जै कें जरूरत छै.

अगर बच्चा कें शारीरिक या मानिसक बढ़त ठीक सं नहि भ रह छै त माता-पिता केंस्वास्थ्य कार्यकर्ता सं सलाह लेवय कें जरूरत छै.

मातृभाषा मे बच्चा कें शिक्षण सबसे पहिले ओकरा सोचय और खुद के व्यक्त करएय कें क्षमता कें विकास मे मदद करएयत छै.गाना, नानी-दादी कें कहानियक, कविताआक आ खेल केंजरिये बच्चा भाषा कें जल्दी आ आसानी सं सीखयत छै.

जइ बच्चा कें समय सं टीकाकरण पूरा भेल होय आ जेकरा पर्याप्त पोषण भेट रहल होय, ओकरा जीवित रहय कें संभावना बइढ़ जायत छै तथा ओय मे घुलनाय-मिलनाय, खेलनाय-कूदनाय आ सीखय कें रूझान अधिक होयत छै.

इ स्वास्थ्य पर परिवार कें खर्च, बीमारी सं स्कूल सं बच्चा कें गैर हाजिरी आ बीमार बच्चा कें देखभाल मे माता-पिता कें आमदनी कें नुकसान कें कम करतय.

बाल विकास आ शुरु आती सीख कें मुख्य संदेश -३

खेलनाय आ खोजबीन कें लेल भेटहि वाला बढ़ावा बच्चाक कें सीखनाय आ ओय मे सामाजिक, भावनात्मक, शारीरिक आ दिमागी विकास मे मदद करएयत छै.

बच्चा आनंद कें लेल खेलय छै, मुदा खेल ओकरा सीखनाय आ विकास करएय कें कुंजी सें हो छै. खेलला सं बच्चा कें ज्ञान आ अनुभव कें आकार लेनाय आ ओकर उत्सुकता आ विश्वास कें विकास मे मदद भेटहि छै.

बच्चा चीज कें आजमायत भेल, नतीजा कें तुलना करएयत, सवाल पूछएयत आ चुनौती कें सामना करएयत सीखएय छै. खेलनाय, भाषा सीखनाय, सोचनाय, योजना बनेनाय, संगठित होबाक आ फैसला लेवएय कें कौशल कें विकास करएयत छै.

अगर बच्चा विकलांग छै, त ंउत्तेजना आ खेल कें जरु रत खास तौर पर बइढ़ जाएयत छै.

लड़कियक आ लड़काक कें खेलनाय आ परिवार कें सभी सदस्यक सं घुलनाय-मिलनाय कें समान मौका कें जरूरत होयत छै. पिता कें सगं खेल आ मेलजोल दूनू कें बीच मजबूत रिश्ता बनावा में मददगार होयत छै.

परिवार कें लोग आ बच्चाक कें देखभाल करएय वाला बच्चाक कें साफ-साफ हिदायतक कें साथ मामूली काम सौंप कं, खेलएय कें चीज द कं आ खेल पर दबदबा बनैएल बगैर नयी गतिविधियक सुझा कं सीखनाय मे बच्चा कें मदद कएयर सकय छी. बच्चा पर करीबी निगाह रखूं आ ओकर विचार पर गौर करूं.

बिना ककरो मदद कें छोटा बच्चा अगर कोनों काज करएय कें जिद करएय त ओकर देखभाल करएय वाला कें धीरज सं काज लेवएय कें जरूरत छै. बच्चा कें सफलता भेटहि तइक कोशिश करएय सीखएय छै. जखन तइक बच्चा कोनों खतरा सं दूर छै, नया आ मुश्किल करएय कें जद्दोजहद बच्चाक कें विकास कें लेल निक कदम छै.

सभ बच्चा कें अपन विकास कें अवस्था कें मुताबिक तरह-तरह कें सरल चीज सं खेलय कें जरूरत छै. पानी, बालू, गत्ता कें बक्सं, लकड़ी कें गुटक, बर्तन आ ढक्कन खेलय कें आतवे निक सामान अछि, जते की दुकान सं खरीदल गेल खिलौना.

बाल विकास आ शुरु आती सीख कें मुख्य संदेश -४

बच्चा कें संग व्यवहार कैना कैल जै? बच्चा अपन करीबी लोगक कें व्यवहार कें नकल उतायर कं सीखयत छै.

दोसर कें देखएयत आ ओकरा जैना बनएयत छोट बच्चा सामाजिक व्यवहार कें तौर-तरीका सीखएयत छै.ओ सीखएयत अछि की केखन व्यवहार ठीक छै आ केकन नहि .

पइग-बुजुर्गक आ अपना सं पइग बच्चाक कें उदाहरण बच्चा कें व्यवहार आ व्यक्तित्व कें निर्माण मे पइग असर डलएय छै. बच्चा दोसर कें नकल करएय सीखएयत छै,नहि की दोसर कें बतावा सं की इ करूं. अगर पइग चीखते-चिल्लाते आ हिंसक व्यवहार करएयत छै, त बच्चा सें हो वैं सीखतय. पइग अगर दोसर कें संग भलाई, इज्जत आ धीरज कें साथ पेश आवएय छै, तं बच्चा सें हो एकरा दोहरेतय.

बच्चा बहाने बनवय छै. एकरा बढ़ावा दिया जाना चाहिए, ऐना कि बहाना बनाना बच्चा कें कल्पनाशीलता कें विकास करएय छै. इ बच्चा कें दोसर लोग कें व्यवहार कें तरीकाक कें समझयत आ ओकरा स्वीकार करएय मे सें हों मदद करएयत छै.

बाल विकास आ शुरुआती सीख कें मुख्य संदेश -५

माता-पिता आ बच्चा कें देखभाल करएय वाला कें खतरे कें ओय निशाना कें जानना चाही जे दर्शवाएय छै की बच्चा कें बढ़एयत आ विकास डगमग छै.

माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें ओ अहम पड़ावक कें जानय कें जरूरत छै, जे दर्शावएय छै की बच्चा कें विकास सामान्य रूप सं भ रहल छै. ओकरा इ सें हो जानएय कें जरूरत छै की शारीरिक या मानिसक रूप सं कमजोर बच्चाक कें कखन मदद कें जानी छै आ ओकरा देखभाल आ प्यार कें माहौल कोन तरह देवाक जै कें छै.

सभ बच्चा एक जैना तरीका सं बढ़इत आ विकसित होएयत छै,लेकिन हरेक बच्चा कें विकास कें अपन गति होएयत छै.

इ गौर करूं की बच्चा स्पर्श, घ्वनि आ दृश्यक पर कें प्रतिक्रि या करएयत छै? माता-पिता विकास सें जुड़ल दिक्कतक या अक्षमता कें पहचान कयर सकएयत छै. अगर बच्चा धीमी गति सं विकसित भ रहल छै त माता-पिता आ देखभाल करएय वाला बच्चाक संग अतिरिक्त समय गुजार कं, खेल कं आ ओय सं बात करूं, आ बच्च कें मालिश कयर मदद कयर सकएयत छै.

उत्तेजित करएयत आ ध्यान खींचय कें बावजूद अगर बच्चा बेअसर रहएयत छै तं माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें कोनों प्रशिक्षित स्वास्थ्यकर्मी सं मदद लेवएय कें जरूरत छै. अपंग बच्चा कें क्षमताआक कें पूर्ण विकास मे मदद करएय कें लेल शुरु आती पहल बहुत जरूरी छै. बच्चा कें क्षमता बेसि सं बेसि विकिसत करएय कें लेल माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें बढ़ावा दिअ जै कें जरूरत छै.

अपंगता कें शिकार लड़का या लड़की कें किच्छू बेसि दुलार दिअ जेनाय आ एहतियात बरतय जै कें जरूरत होयत छै. सभ बच्चा कें तरह विकलांग बच्चाक कें लेल सें हों जन्म कें समय या ओय कें तुरंत बाद जन्म पंजीकरण, मां कें दूध, टीकाकरण, पौष्टिक भोजन तथा बदसलूकी आ हिंसा सं बचाव कें जरूरत छै. अपंग बच्चाक के खेलनाय आ दोसर बच्चा सं घुलनाय-मिलनाय कें लेल बढ़ावा दिअ जाना चाही.

जे बच्चा खुश नहि छै या जज्बाती व परेशानियक सं घिरल होय छै, ओकर बर्ताव गैर मामूली भ सकएयत छै. मिसाल कें तौर पर अचानक गैर दोस्ताना, दुखी, आलसी, असहयोगी आ शरारती भ जेनाय, अक्सर रोनाय, दोसर बच्चो कें प्रति हिंसक भ जेनाएय, दोस्तक कें संग खेलनाएय कें बजाय अकेले रहनाय या अचानक रोजमर्रा कें काजक या पढ़ाई-लिखाई मे दिलचस्पी नहि लेनाएय, भूख आ नींद मे कमी आयब जेनाय.

अभिभावकाक कें प्रोत्साहित कैल जेनाय चाही की ओ बच्चा सं बात करएय आ ओकरा सुनएय. समस्या अगर दूर नहि होय , तं शिक्षक या स्वास्थ्य कार्यकर्ता कें मदद लिअ.

अगर बच्चा कें दिमागी या जज्बाती परेशानी छै या ओकर साथ बदसलूकी होय छै त अगली मुश्किलक सं बचएय कें लेल ओकरा सलाह देवाक जै चाही.

आगू दे गेल दिशा-निर्देश माता-पिता कें इ जानकारी देयत छै की बच्चा कैना विकसित होयत छै.सभ बच्चाक कें बढ़इत आ ओकर विकास मे अंतर होयत छै. धीमी प्रगति सामान्य भ सकएयत छै या जरूरत सं कम पोषण, खराब स्वास्थ्य, उत्तेजना कें अभाव या अइ सं बेसि ज्यादा गम्भीर दिक्कतक कें कारण भ सकएय छै. बच्चा कें प्रगति कें बारे मे माता-पिता प्रशिक्षित स्वास्थ्य कार्यकर्ता या शिक्षक सं बात करएय कें इच्छा कयर सकय छी.

बच्चे कैना विकिसत होयत छै

एक महीना तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • गाल या मुंह कें सहला रहल हाथक कें ओर सिर घुमाऊं
  • मुंह तइक दूनू हाथ लं जाऊं.
  • परिचित आवाज आ ध्वनियक कें ओर पलटूं.
  • मां कों दूध पियूं आ मां कें स्तन अपन हाथों सं छूऊं

माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें सलाह

  • जन्म कें एक घंटा कें भीतर मां सं करीबी बनूं आ मां कें दूध भेटहि
  • बच्चा कें सीधा उठैला पर ओकर सिर कें सहारा दिअ.
  • बच्चा कें अक्सर मालिश करूं आ ओकरा गोद मे लिअ
  • बच्च कें हमेशा करीने सं गोद मे लिओ, भले ही अहां थक ाल आ परेशान होय
  • बार-बार बच्चा कें मां कें दूध पिलाऊं, कम सं कम चायर घंटा पर
  • जैतक संभव भ सक एय, बच्चा सं बात करूं, ओकर सामने पढूं आ गाना गाऊं
  • जन्म कें छह सप्ताह बाद नवजात शिशु कें संग स्वास्थ्य कार्यकर्ता सं मिलूं

निम्न खतरनाक संकेत, जय पर ध्यान देवाक जै चाही-

  • ठीक सं मां कें दूध नहि पिलेनाय या पिनाय सं मना करनाय
  • हाथ आ पैर कें कम चलेनाय
  • ऊंची आवाज या तेज रोशनी पर कम ध्यान देनाय या बेअसर भ जेनाय
  • बिना कोनों कारण कें लंबे समय तइक रोनाय
  • उल्टी आ दस्त करनाय, जे शरीर मे पानी कें कमी पैदा कयर सकएय छै

छह महीना तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • पेट कें बल लेटवय पर सिर आ सीना उठाऊं
  • झूलती चीजक पर लपकूं
  • चीजक कें पकड़ेएय आ हिलाऊं
  • दूनू तरफ करवट लिएै
  • सहारा कें जरिये बइसाऊं
  • हाथ आ मुंह सं चीजक के समझूं
  • आवाजक आ चेहराक कें भावाक कें नकल उतारएय कें शुरु आत करूं
  • अपन नाम आ परिचित चेहराक कें देख कं ध्यान दिओ

माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें सलाह

  • बच्चा कें साफ-सुथरा, समतल आ सुरिक्षत जगह पर लिटाओं ताकी ओ मजा सं घूम-फिर सकएय आ चीजक तइक पहुंच सकएय.
  • बच्चा कें बैठएय कें लेल अइ तरह टेक दिओ या ओकरा थामूं की ओ अपन आसपास कें हलचलक कें देख सकूं
  • दिन होय या रात, भूख लगएय पर बच्चा कें मां कें दूध पिलेनाय जारी राखूं आ बाकी भोजन देवय कें सें हों शुरु आत करूं:, 6-8 महीना तइक दिन मे दू बेर, 8-12 माह तइक तीन-चायर बेर जतेक संभव होय बच्चा कें साथ बात करूं, पढूं या गाना गाऊं

निम्न खतरनाक संकेत, जइ पर ध्यान देवाक जै चाही

  • पैर में कड़ापन या ओकरा चलय मे परेशानी
  • सिर कें लगातार हिलेनाय (इ कान मे फैलअय वाला रोग कें लक्षण सें हो भं सकएयत छै आ अगर इलाज नहि कैल जै त बहरेपन कें ओर बइढ़ सकएय छै)
  • आवाजक, परिचत चेहरा या मां कें स्तनक पर कम ध्यान देनाय या बिल्कुल बेअसर भ जेनाय
  • मां कें दूध या दोसर भोजन कें लेल मना करनाय

12 माह तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • बिना ककरो सहारे कें बइसूं
  • हाथ आ घुटना कें बल चलूं आ उएयठ कं थार हुअ लागत
  • सहारा पा कं कदम बढ़ाऊं
  • शब्दक आ आवाजाक कें नकल उतारएय कें कोशिश करूं तथा मामूली अनुरोध पर गौर करूं
  • खेलनाय आ ताली बजेनाय कें मजा लिअ
  • लोगक कें ध्यान खींचअय कें लेल आवाजक आ अदाआक के दोहराओ
  • अंगूठा आ आगूर सं चीज कें उठाऊं
  • चम्मच आ कप जैना चीज कें पकड़नाय तथा खुद सं भोजन करएय कें कोशिश कें शुरु आत करूं

माता-पिता आ देखभाल करएय सवाला कें सलाह

  • चीज कें ओर इशारा करूं आ ओकर नाम लिअ. जखनतखन बच्चा सं बात करूं आ ओकर साथ खेलूं
  • भोजन कें वक्त कें इस्तेमाल परिवार कें सभ सदस्यक कें साथ मेलजोल बढावा मे मदद करूं.
  • अगर बच्चा कें विकास धीमा होय या ओकरा कोनों शारीरिक अक्षमता छै त ओकर क्षमताआक पर जोर दिओ आ ओय े कें किच्छू बेसि बढ़ावा दिओ आ मेलजोल बढ़ाऊं
  • कतेको घंटा तइक बच्चा कें एक जैना हालत मे नहि छोडूं
  • कोनों अनहोनी कें रोकअय कें लेल बच्चा कें जगह, जतेक संभव भं सक एय, सुरक्षित बनाऊं
  • मां कें दूध पिलेनाय जारी राखूं आ सुनिश्चित करूं की बच्चा कें भरपूर भोजन भेटहि आ ओय मे परिवार कें विभिन्न भोजन सें हो शामिल होय
  • चम्मच/कप सं भोजन करएय मे बच्चा कें प्रयास मे मदद करूं
  • इ तय करूं की बच्चा कें पूरा टीकाकरण होय आ सुझाये गेल सभ पौष्टिक तत्वक कें ओकरा खुराक भेटहि

निम्न खतरनाक संकेत, जइ पर ध्यान देवाक जै चाही

  • पुकारएय पर बच्चा कोनों आवाज नहि निकालय
  • हिलअयत-डुलअयत चीजों पर गौर नहि करूं
  • बच्चा उदासीन होय आ देखभाल करएय वाला सं बेपरवाह होय
  • बच्चा कें भूख नहि लागय या खाना सं मना करूं

दू साल तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • चलएय, चढ़एय आ दौड़एय
  • नाम लेवय पर चीज या तस्वीर कें तरफ इशारा करूं(जैना- नाक, आंख वगैरह)
  • कई शब्द एक संग बाजूं (लगभग 15 महीना सं)
  • मामूली हिदायत कें लागू करूं
  • पेंसिल या कोयला सं रेखाक खींचूं
  • सरल कहानियक आ गाना कें आनंद लिअ
  • दोसर कें व्यवहार कें नकल उतारूं
  • खुद सं भोजन करएय कें शुरु आत करूं

माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें सलाह

  • बच्चा कें सामने पढूं, गाऊं आ ओकरा साथ खेलाओ
  • बच्चा कें खतरनाक चीज सं दूर रहएय कें सीख दिओं
  • बच्चा कें संग आम तरीक ा सं बात करूं, खुद बच्चा नहि बइन जाऊं
  • मां कें दूध पिलेनाय जारी राखूं आ इ सुनिश्चित करूें की बच्चे कें भरपूर भोजन भेटहि आ ओय मे परिवार मे खैल जा रहल विभिन्न भोजन सें हो शामिल होय
  • बच्चाक कें खाना कें लेल प्रोत्साहित करूं, मुदा जोर नहि डालूं
  • सरल तौर-तरीक ा बताऊं आ जायज उम्मीद करूं
  • बच्चा कें उपलब्धियक कें तारीफ करूं

निम्न खतरनाक संकेत, जइ पर ध्यान देवाक जै चाही

  • दासर सं बेपरवाह रहूं
  • चलएयत हुए खुद के साधएय मे परेशानी महसूस करूं(प्रशिक्षित स्वास्थ्य कार्यकर्ता सं मिलूं)
  • चोट लगएय आ व्यवहार मे बेवजह बदलाव आवयय(खास तौर पर अगर बच्चा कें देखभाल ककरो दोसर कें जिम्मा छै)
  • भूख कें कमी होय

तीन साल तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • आसानी सं चलूं, दौडूं, मारूं आ कूदूं
  • इशारा करएय पर चीज आ तस्वीर कें समझूं आ ओकर पहचान करूं
  • दो या तीन शब्दक कें वाक्य बनाऊं
  • अपन नाम आ अपन उम्र बताऊं
  • रंगक कें नाम लिअ
  • गिनती समझूं
  • चीजक कें खेलनाय कें जरिया बनाऊं
  • खुद सं भोजन करूं
  • लगाव जाहीर करूं

माता-पिता आ देखभाल करएय वाला कें सलाह

  • बच्चा कें संग किताब पढूं आ तस्वीरक पर बात करूं
  • बच्चाक कें कहानी सुनाऊं आ ओकरा कविताक आ गीत सिखाऊं
  • बच्चा कें भोजन कें लेल ओकरा थाली-कटोरी दिअ
  • बच्चा कें खै कें लेल बढ़ावा देनाय जारी राखूं आ बच्चा कें मुताबिक भोजन कें लेल ओकरा पूरा समय दिअ
  • बच्चा कें कपड़ा पहनएय, हाथ धोनाय आ शौचालय कें इस्तेमाल सीखएय मे मदद करूं

निम्न खतरनाक संकेत, जइ पर ध्यान देवाक जै चाही

  • खेल मे दिलचस्पी नहि लेनाय
  • बार-बार गिरनाय
  • छोटी चीजक कें साधमय मे दिक्कत होनाय
  • मामूली बाताक कें नहि समझ पेनाइ
  • कइ शब्दक कें जोड़ क बाज मे समर्थ नहि होनाय
  • भोजन मे कम दिलचस्पी या कोनों दिलचस्पी नहि लेनाय

पांच साल तइक

बच्चा करएय मे सक्षम होय

  • चलएय मे तालमेल बनाऊं
  • पूरा वाक्य बाजूं आ कोनों शब्दक कें इस्तेमाल करूं
  • एक-दोसर सं उलट चीज कें समझूं ; जैना- मोटा आ पतला, लंबा आ ठिगना
  • दोसर बच्चा कें संग खेलूं
  • खुद सं कपड़ा पहनूं
  • आसान सवालक कें जवाब दिअ
  • 5 सं 10 चीजक कें गिनती करूं
  • अपन हाथ साफ करूं

माता-पिता आ पालएय वाला कें सलाह

  • बच्चा कें सुनूं
  • बच्चा कें संग अक्सर घुलूं -मिलूं
  • अगर बच्चा हकलाता छै तं ओकरा आ धीमी रफ्तार में बाजएय कें सलाह दिओ
  • कहानियां पढूं आ सुनाऊं
  • बच्च कें खेलनाय आ छानबीन कें लेल प्रोत्साहित करूं

निम्न खतरनाक संकेत, जइ पर ध्यान देवाक जै चाही

  • खेल मे बच्चा कें भागीदारी पर गौर करूं, अगर बच्चा डरा होय, गुस्सा मे या हिंसक छै त इ ओकर जज्बाती दिक्कतक या ओकर साथ भेल बदसलूकी कें लक्षण भ सकएय छै.

स्त्नोत: यूनीसेफ

1.66666666667
टिप्पणीक पठाउ

जेँ चयनित अछि, त उपयोगकर्ता एहि विषय पर टिप्पणी दऽ सकैत छथि ।

Enter the word
Back to top