शेयर
Views
  • State: Open for Edit

स्वच्छता

अइ आलेख मे स्वच्छता कें विषय मे विस्तार सं जानकारी देल गेल छै।

स्वास्थ्य संबंधी जानकारी बाँटनाइ आ ओय पर कार्य करनाय क्यिाक आवश्यक छै।

बच्चाक कें सबटा बीमारीयक आ मौतक मे सं आधा घटनाक गंदा हाथक सं, या गंदा खेनाएय आ पानी स ओकर मुंह मे जै वाला रोगाणुआक कें कारण होएयत छै। अस मे सं कईक रोगाणु मानव आ पशुअक कें मल सं सें हो आवएयत छै।

निक स्वास्थ्य आदतक कें कारण बहुत-सं बीमारियक सं, विशेषत: डायरिया सं, बचाव भ सकएय छै।

सब प्रकार कें मल शौचकूप या शौचालय मे फेंकनाय; बच्चाक कें मल सं संपर्क करएय कें बाद या बच्चाक कें खाना खुआवा सं पहिले या खैनास कें छूअ सं पहिले हाथ साबुन आ पाइन के साथ या राख आ पाइन कें साथ निक तरह साफ करनाय; आ एकर पुष्टि कर लेनाय की पशुअक कें मल घर, रास्ता, कुँआक आ बच्चाक कें खेलनाय कें स्थान सं दूर रखाय जबाक चाहि।

एकित्रत भ कं शौचकूप आ शौचालय बनेनाय आ ओकर प्रयोग करनाय, जल स्रोतक कें सुरक्षा करनाय आ कूड़ा तथा अन्य गंदगी, पाइन जैना चीजक कें सुरक्षित निपटारा कै जै कें समाज में सब कें आवश्यकता छै। सरकारक द्वारा समाज कें कम खर्चीलाक शौचकूप आ शौचालय बनायव कें लेल आवश्यक सूचना देनाय बहुत आवश्यक छै क्याकि इ सब परिवारक कें द्वारा वहनीय छै। नगरीय क्षेत्रक मे, अल्प-व्ययीन (कम खर्चीलाक) ड्रेनेज सिस्टम आ सफाई व्यवस्था, परिष्कृत पेय-जलापूर्ति आ कूड़ा इकट्ठा करनाय जैना काजक कें लेल सरकारी मदद कें आवश्यकता होएयत छै।

स्वच्छता मुख्य संदेश-१

सारा मल सुरिक्षत रूप सं दूर स्थान पर फेंक दवाक जै चाहि शौचकूप या शौचालय सर्वोत्तम मार्ग छै।

बहुत तरह कं बीमारीक, विशेषत: अतिसार (डायरिया), मानव मल मे पै जै वाला रोगाणुओं के कारण होएयत छै। यदि रोगाणु खाना, या पानी, हाथ, बर्तन, या खाना पकेनाय कें स्थान आ खाना खेनाय कें स्थान पर पहुँच गेलऊ तो ओ मुँह कें द्वारा निगले सें हो जा सकएय अछि आ अइ प्रकार बीमारी फैला सकएय छै।

रोगाणुआक कें फैलएय सं रोकएय कें लेल सबसे निक उपाय छै-जतैक मल चाहे ओ मानव कें होय या पशुअक कें सुरक्षित तरीका सं फेंकल जै। मानव मल कें शौचकूप या शौचालय फेंकएय जै चाहि। शौचालयक कें साफ रखनाय जबाक चाहि। पशुओं का मल घर, रास्ता आ बच्चाक कें खेलनाय कें स्थान सं दूर रखबाक चाहि।

यदि शौचकूप या शौचालय कें प्रयोग करनाय संभव नहि होय तं, सब कें घर, रास्ता, जल कें स्रोत आ बच्चाक कें खेलनाय कें स्थान सं काफी दूर जा कं मलत्याग करबाक चाहि आ मल कें तुरंत मिट्टी मे दबाक दे चाहि।

सब तरह कं मल, बिल्कुल नन्हा बच्चाक कें सें हो, रोगाणुओं कें स्थानांतरण करएयत छै आ अही लेल खतरनाक छै। यदि बच्चाक बिना शौचकूप या शौचालय कें, लैट्रिन या पॉटी कें बिना मलत्याग करूं तं ओकर मल तुरंत शौचकूप या शौचालय मे डालय देबाक चाहि या गाइड़ देबाक चाहि।

लैट्रिन आ शौचालय अक्सर साफ रखनाय चाहि। लैट्रिन कें ढ़क कयर रखनाय चाहि आ शौचकूपक मे फ्लश चला देबाक चाहि। स्थानीय सरकारक आ एनजीओ कम खर्च मे सैनिटरी लैट्रिन बनावय कें लेल सलाह द कं समुदायक कें मदद कयर सकएय छै।

स्वच्छता मुख्य कें संदेश-२

बच्चाक समेत, परिवार कें सबटा सदस्यक कें लेल , मल सं संपर्क कें बाद, भोजन कें छूने से पहिले आ बच्चाक कें खुअेनाय सं पहिले से पहिले, हाथ साबुन आ पानी या राख आ पानी कें संग निक तरह सं धोनाय आवश्यक छै।

हाथ साबुन आ पाइन या राख आ पाइन कें संग निक तरह सं धोनाय सं रोगाणु निकल जाएयत छै। केवल अंगुलियक कें खंगालनाएय काफी नहि छै-दोनू हाथक कें साबुन या राख सं धोवाक चाहि। अइ कारण रोगाणुक आ गंदगी कें मुँह मे जेनाय सं बचाव होएयत छै। हाथक कें धोअ सं कृमि कें संक्र मण सें हो दूर रहएयत छै। साबुन आ पानी या राख आ पानी कें शौचालक कें बाहर सुविधापूर्वक रखबाक जै चाहि।

  • इ विशेषताक महत्वपूर्ण छै कि एखन जइ बच्चा मलत्याग कैने होय ओकर नितंब धोअएय कें बाद हाथ धोनाय बहुत ही आवश्यक छै। अइ प्रकार पशुअक कें मल संपर्क या कच्चा खाना छूअएय पर सें हो हाथ धोनाय अनिवार्य छै।
  • खाना पकेनाय, परोसने या खैनाय सं, या बच्चाक कें खाना खिलेनाय सं पहिले हाथ धोनाय बहुत आवश्यक छै। मलत्याग करएय के बाद आ खाना खै सं पहिले दूनू हाथ कें निक तरह धोनाय कें आदत बच्चाक मे डालवक चाहि जइ सं उनका बीमारिक सं बचाव भं सकएय।

बच्चा प्राय: मुँह मे हाथ डालएयत रहयत छै, अइ लैल बच्चाक कें हाथ अक्सर धोनाय महत्वपूर्ण छै, विशेषत: जखन ओ गंदगी या पशुअक कें संग खेल रहयत होंय।

बच्चा आसानी सं कृमि सं संक ्रमित भ जाएयत छै, जइ सं शरीर कें पोषक तत्व कम भ जाएयत छै। कृमि आ ओकर अंडा मानव मल आ मूत्र मे, सतही पानी आ ज़मीन मे, आ गंदी तरह सं पकाये भेल मांस मे पैल जाएयत छै।बच्चाक कें शौचकूपक कें पास या मलत्याग करएय वाला स्थान कें पास नहि खेलनाय चाहि। शौचकूपक आ शौचालयाक कें पास जूता पहीनय सं संक्र मण सं बचाव होएयत रहएयत छै, अइ सं जंतु पैर कें त्वचा कें द्वारा शरीर मे प्रवेश नहि करएय सकएय छै।

  • ऐहन जगह रहएय वाला जगह बच्चक कें जत इ कृमि-जंतु अछि, सालभर मे दू या तीन बेर निक एन्टीहेल्मेन्टिक उपचार देवाक चाहि।

स्वच्छता मुख्य संदेश-३

साबुन और पानी से रोज चेहरा धोने से ऑंखों के संक्र मण से बचाव होता है। विश्व के कुछ हिस्सों में, आँखों का संक्र मण ट्रॅकोमा की ओर ले जाता है जइ कारण अंधत्व सें हो आ सकएय छै।

  • गंदा चेहरा मक्खियक कें आकर्षित करएयत छै, आ ओ एक व्यक्ति सं दोसर व्यक्ति तइक रोगाणु फैलवएयत छै। अइ सं आँखें खराब भ सकएयत आ देखएय मे कठिनाई भ सकएयत छै। यदि आँखें साफ आ स्वस्थ नहि राखल जाएय त संक्र मण भ सकएय आ अंधत्व सें हो आएयब सकएय छै।
  • यदि आँखें साफ आ स्वस्थ अछि, सफेद हिस्सा साफ छै, आँखें नम आ चमकदार अछि,आ दृष्टि तीक्ष्ण छै। यदि आँखइक बहुत बेसि सूखी या लाल आ सूजी भेल,यदि कोनों पदार्थ कें कोनों प्रवाह भ रहल हाये या देखएय मे कठिनाई आ रहल होय त जल्द सं जल्द बच्चाक कें स्वास्थ्य कर्मचारी को देखनाय चाहि।

स्वच्छता मुख्य संदेश -४

पानी कोनों सुरिक्षत स्रोत सं ही लिअ या फिर शुद्ध कैल गेल पाइन नें प्रयोग करूं। पानी साफ रखाएय कें लेल पाइन के बर्तन ढइक कं रखनाय आवश्यक छै।

  • जखन साफ पाइन कें पर्याप्त आपूर्ति होयत छै तखन परिवारक कें बहुत कम बीमारी होयएयत छै आ ओकरा मालूम होएयत छै की कोन प्रकारक रोगाणुक कें दूर रखूं.
  • यदि पाइन साफ नहि हुएै तं उबाइल कं या छाइन कं साफ कैल जै सकएय छै.
  • साफ पाइन कें स्रोतक मे निक तरह सं निर्मित आ पर्याप्त रख-रखावयुक्त पाइप सिस्टम, ट्यूब वेल्स्, संरंक्षित खोद, गेल कुंआ आ झरने समाविष्ट होएयत अछि. पाइन कें असुरक्षित स्रोत छै-तालाब, नदिक, खुलल टंकिक आ बावड़ी (ऐना बहुत पइग कुँआ जइ मे नीचा उतएयर कं जै कें लेल बहुते रास सीढ़ियाँ होएयत अछि) अइ सं लेल पाइन उबालएय कें बाद प्रयोग कयर सकएय छी. पाइन कें साफ राखएय कें लेल ओकरा साफ बर्तन मे ढइक कं रखबाक चाहि.

परिवार आ समुदाय अपन पाइनी कें स्रोतक कें अइ प्रकार साफ राखएय सकएय छी.

  • कुँआक कें ढइक कं राखूं आ ओएय पर हैंड पंप लगाऊं
  • घर मे सं बाहर निकलएय वाला इस्तेमाल कैल गेल पाइन आ मल पाइन कें ऐहन स्रोत सं जत सं पीइन कें लेल , खाना पकावएय कें लेल, आ कपड़े धोएय कें लेल पाइन भेटहि छै, बहुत दूर फेंकूं.
  • पानी कें स्रोत सं शौचालय कम सं कम 15 मीटर कें दूरी पर बांधवाक चाहि.
  • बाल्टियक, रस्सी आ मर्तबान जइ मे राखएय छी, हमेशा एकदम साफ आ स्वच्छ रखबाक चाहि आ ओकरा साफ जगह पर रखबाक चाहि, ज़मीन पर नहि
  • पशुअक कें पीवएय वाला पाइन कें स्रोत कें परिवार कें रहएय कें जगह सं दूर रखबाक चाहि.
  • कोनों पानी कें स्रोत कें आसपास कीटनाशकक कें प्रयोग नहि करबाक चाहि.

परिवार अपन घर मे पानी अइ प्रकार साफ राखएय सकएय छी.

  • पीवएय कें पानी साफ आ ढक ल बर्तन मे राखूं.
  • गंदा हाथक सं साफ पाइन के छूऊं
  • कोनों कसौली या कप सं पानी कें बर्तन मे सं पाइन लिअ.
  • पाइन कें बर्तन पर नल लगा लिअ.
  • पाइन कें बर्तन कें अंदर ककरों हाथ नहि डालएय दिअ आ नहि ही सीधा ओय पाइनी कें बर्तन मे सं कोनों कें पाइन लिअ दिय.
  • पशुअक कें भरएल पाइन सं दूर राखूं.

यदि पीवएय कें पाइन कें बारे मे कोनों सें हो अनिश्चितता होएय, त्स्थानीय प्राधिकरणक सं संपर्क कैल जै सकएय छै.

स्वच्छता कें मुख्य संदेश-?

काचे या बचल खाना खतरनाक भ सकएय छै काचल खाना धोक कं आ पका कं खाऊं. पक ल खेनाएय पूरी तरह सं गर्म कइर कं बिना विलंब सं खैबाक चाहि.

  • खाना कें पूरी तरह पकैल सं ओकर रोगाणु मयर जाएयत छै. खाना, विशेषत: मांस आ मुर्गी कें माँस कें बहुत निक तरह सं पकेवाक चाहि.
  • सामान्य गरम खेनाएय मे रोगाणु तेजी सं बढएयत छै. कावएय कें बाद खाना बहुत जल्दी खा लेबाक चाहि ताकि खेनाएय मे रोगाणु आ ही न पाएँ।
  • यदि खेनाएय दू या बेसि घंटाक कें लेल राखएय कें छै , त ओकरा बेसि गरम कं रखबाक चाहि। या फिर बिल्कुल ठंडा कं रखबाक चाहि।
  • यदि पकैएल कें गेल केनाएय खाना दूसरी बेर कें भोजन तइक राखा के होय, त ओकरा ढइक करएय रखबाक चाहि ताकि मक्खियक आ कीड़े-मकोड़ाक सं सुरक्षित रहएय आ खाना खाइत समय ओकरा पूरी तरह सं गर्म करएय लिअ।
  • योगर्ट आ खट्टा दलिया खेनाएय मे बहुत निक होएयत छै क्योंकि एकर अम्लक कें कारण रोगाणु बइढ न्नहि पावएय छै।

कांचएय खेनाएय, विशेषत: पॉल्ट्री और समुद्री खेनाएय, अइ मे प्राय: रोगाणु होएयत अछि। पकाल भेल खेनाएय कांचल खेनाएय मे सं रोगाणु भ सकएयत छै । अही लेल कांचल आ पकैएल भेल खेनाएय कें अलग रखबाक चाहि। वरना पाकल खेनाएय मे कांचल खनाएय सं रोगाणु आयबे आबइए जेतएय। चाकू, सब्जी काटएय कें बोर्डस् आ खाना पकावएय कें जगहक कें सफाई कें विशेष ध्यान राखएय के छै। आ इ वस्तुअक कें प्रयोग कें बाद धो कं रखबाक चाहि।

  • माँ कें दूध छोट आ छोटाक बच्चाक कें ले सुरक्षित छै। पशुअक कों ताज़ा उबलल भेल दूध बिना उबलल दूध सं बेसि सुरक्षित छै।
  • मां अक दूध निकाइल कं कमराक कें तापमान पर, एकटा साफ आ ढाक ल गेल बर्तन मे आठ घंटाक तइक राखल जा सकएय छै।
  • सब छोट बच्चक आ छोट बच्चाक कें खेनाएय बनावएय समय खास ध्यान रखबाक चाहि। ओकर खेनाएय ताज़ा बनैवा कें चाहि आ ओकरा दर तइक रखबाक सें हो नाहि चाहि।
  • फल आ सब्जियक यदि नन्हाक आ छोट बच्चाक कें कच्च खुआवा जै वाला छय तइ त ओकरा पहिल् साफ पाइन में निक तरह सं धो लिअ क्याकि कीटनाशक आ अन्य दवाइयक फल आ सब्जियक पर दिखाई नाहि देतएय मुदा जान लेवा भ सकएय छै।

स्वच्छता कें मुख्य संदेश-६

खेनाएय, बर्तन आ खाना पकावएय कें कें साफ रखबाक चाहि। खाना बर्तनक मे ढइक कं रखाबक जै चाहि।

खेनाएय पर बइसल रोगाणु निगएय जा सकएय छै। आ बीमारी लाएयब सकएय छै। खेनाएय कें रोगाणुअक सं बचावएय कें लेल

  • खेनाएय पकावएय कें स्थान साफ रखबाक चाहि।
  • चाकू, खेनाएय पकावएय कें बर्तन, पतीलाक आ प्लेटक साफ आ एकटा करएय रखबाक चाहि।
  • प्लेटक आ बर्तनक कें पोंछएय कें लेलो प्रयोग कैं जैं वाला कपडा धोकर धूप मे सुखाबक कें चाहि। प्लेटेक, बर्तन आ पतीले खाना खाते ही रोज साफ मांज कं एकटा रैक मे सुखावाक क राखनाएय चाहि।
  • खान कें पशुअक आ कीड़े-मकोडाक सं बचावएय कें लेल ढइक कं रराखबाक चाहि।
  • दूध पीवएय कें बोतलक या टीटस् का प्रयोग नहि करूं क्याकिओकरा मे रोगाणु आएयब सकएय छै। जइ सं डायरिया भ सकएय छै जखन तइक कि इ बोतलक कें हर बेर निक तरह अबाइएल गेल पाइन सं धो कं नहि राखल जाइ। बच्चाक कें माँ कें दूध ही देबाक चाहिये या चौडा कप सं ओकरा दूध पिलावएय कें चाहि।

स्वच्छता कें मुख्य संदेश-७

घर कें समूचा कूड़ाक करकट कें सुरक्षित निपटारा बीमारी सं बचाव करएयत छै।

खेनाएय पर बइसल रोगाणु निगइएल जा सकएय छै आ बीमारी आइन सकएय छै। खेनाएय कें रोगाणुआक सं बचावएय कें लेल :

रोगाणुअक कें फैलाव मक्खियक, तिलचट्टाक आ चूहे कें द्वारा होएयत छै जे कूड़ा करकट मे खेनाएय ढूँढएय कें लेल घुइस कं रोगाणुअ्र कें जगह देएयत छै। जैना सब्जियक कें छिलकाक आ फलक कें टुकड़ाक आदी।

यदि कूड़ा कें सामुदायिक एकत्रीकरण नहि कैल जा रहल छै, तं ा्रत्येक परिवार कें एकटा कूड़ेदान कें आवश्यकता होएयत जत कि प्रतिदिन घरेलू कूड़ा जरैल या दबाएयल जा सकएय छै।

आसपास कें क्षेत्रक कें मल, कूड़ा आदी, इस्तेमाल कैल गेल पानी इ सब सं मुक्त आ साफ राखएय सं बीमारियक सं बचाव होएयत छै। इस्तेमाल कैल गेल पाइन ानी इकट्ठा करएय कें लेल एकटा गड्ढा खोदवाक चाहि । जइ सं की इ पाइन किचन गार्डन या खेतक कें ओर निकाल देबाक चाहि।

कीटनाशक आ वनौषिधयक जेना रसायन, यदि हुनकर एकटा अत्यंत छोट मात्र सें हो खेनाएय, हाथ या पैर या पाइन मे घुल जै त खतरनाक भ सकएय छै। रसायनक कें काज करएयत इस्तेमाल कैल गेल कपड़ा आ कंटेनरक कें घरेलू इस्तेमाल करएय वाला पाइन कें स्रोत कें पास नहि धोऊं।

कीटनाशक आ अन्य रसायनक कें प्रयोग घर कें आसपास या पाइन कें स्रोत कें पास नहि करबाक चाहि। रसायनक कें संग्रह पाइन कें स्रोत या खेना,य कें स्थान कें पास नहि कराबक चाहि। ककनों खाद्यान्न कें संग्रह रसायनक, कीटनाशकक कें डिब्बाक आदि मे नहि करूं।

स्त्रोत : यूनीसेफ

2.91304347826
टिप्पणीक पठाउ

जेँ चयनित अछि, त उपयोगकर्ता एहि विषय पर टिप्पणी दऽ सकैत छथि ।

Enter the word
Back to top