होम / स्वास्थ्य / स्वास्थ्य योजनाएं / जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई)
शेयर
Views
  • State: Open for Edit

जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई)

इ भाग मे जननी सुरक्षा योजना कें बारे मे जानकारी देल गेल छै.

अइ पन्ना मे जननी सुरक्षा योजना(जेएसवाई) कें जानकारी देल गेल छै .जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई) माताआक आ नवजात शिशुअक कें मृत्यु दर कें कम करय कें लेल भारत सरकार कें राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन (एनआरएचएम) द्ववारा चैल जा रहल छै एकटा सुरिक्षत मातृत्व हस्तक्षेप छै. राष्ट्रीय ग्रामीण स्वास्थ्य मिशन कें अंतर्गत प्रजनन एवं शिशु स्वास्थ्य कार्यक्र म कें तहत माता एवं शिशु कें मृत्यु दर कें घटेनाया प्रमुख लक्ष्य रहल छै . अइ मिशन कें अंतर्गत स्वास्थ्य आ परिवार कल्याण मंत्रलय नें कतेकों नब कदम उठनें छै जइ मे जननी सुरक्षा योजना सें हो शामिल छै. अइ कें वजह सं संस्थागत प्रजनन मे काफी वृद्धि भेल छ आ अइ कें तहत हर साल एक करोड़ सं बेसि स्त्रीगण लाभ उठा रहल अछि. जैननी सुरक्षा योजना कें शुरूआत संस्थागत प्रजनन कें बढ़ावा देवय कें लेल कैल गेल अछि. जइ सं बच्चा जन्म प्रशिक्षित दाई/नर्स/डाक्टरक द्ववारा करायल जा सकय तथा माता एवं नवजात शिशुअक कें गर्भ सं संबंधित जटिलताक एवं मृत्यु सं बचएल जा सकय.

योजना कें उद्देश्य

मातृ एवं शिशु मृत्यु दर कें कम करनाय

योजना की रणनीति

इ योजना, 12 वीं अप्रैल 2005 मे गरीब गर्भवती महिलाआक कें बीच संस्थागत प्रसव कें बढ़ावा देवय कें लेल शुरू कैल गेल छलय, जे कम प्रदर्शन करय वाला राज्यक पइर विशेष ध्यान देवय कें- कें संग सबटा राज्यक आ केंद्र शासित प्रदेशक मे लागू कैल जा रहल छै . जेएसवाई एकटा 100 प्रतिशत केन्द्र प्रायोजित योजना छै आ प्रसव आ प्रसव उपरांत देखभाल कें लेल नकद सहायता करयत छै. इ योजना कें सफलता कें गरीब-गुरबा परिवारक कें बीच संस्थागत प्रसव मे वृद्धि दर कें द्ववारा निर्धारित कैल जायत छै.

जेएसवाई योजना कें उद्देश्य गरीब गर्भवती स्त्रीगणक कें पंजीकृत स्वास्थ्य संस्थाअक मे जन्म देवय कें लेल प्रोत्साहित करनाय छै. जखन ओ जन्म देवय कें लेल कोनों अस्पताल मे पंजीकरण करावयत अछि, त गर्भवती स्त्रीगणक केंप्रसव कें लेल भुगतान करय कें लेल आ एकटा प्रोत्साहन प्रदान करय कें लेल नकद सहायता देल जायत छै.

योजना कें विशेषताक व नकद सहायता

अइ योजना मे जइ राज्यक संस्थागत प्रसव कि दइर कम छै (एलपीएस) (उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार, झारखंड, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, असम, राजस्थान, उड़ीसा आ जम्मू कें राज्यक प्रदर्शन कें रूप मे कश्मीर), शेष राज्यक मे संस्थागत प्रसव कें दइर उच्च छै (एचपीएस) अही आधार पइर नकद सुविधाक या लाभ देल जायत छै. जे अइ प्रकार अछि.

ग्रामीण क्षेत्नों में

श्रेणी

गर्भवती माता कें भेटहि वाला टाका

आशा कें भेटहि वाला टाका

कुल भेटहि वाला टाका

एलपीएस

1400

600

2000

एचपीएस

700

600

1300

शहरी क्षेत्रक मे

श्रेणी

गर्भवती माता कें भेटहि वाला टाका

आशा कें भेटहि वाला टाका

कुल भेटहि वाला टाका

एलपीएस

1000

400

1400 

आशा कें भूमिका

अइ कम प्रदर्शन करय वाला वाले राज्यक मे, आशा - मान्यता प्राप्त सामाजिक स्वास्थ्य कार्यकर्ता - जेएसवाई कें तहत लाभक कें उपयोग करय कें लेल गरीब गर्भवती महिलाआक कें मदद केंल जिम्मेदार अछि.

आशा कि भूमिका निम्न अछि.

  • अपन क्षेत्र में ओय गर्भवती स्त्रीगण कें पहचान करनाय जे अइ योजना सं लाभ कें लेल पात्र अछि.
  • गर्भवती स्त्रीगणक कें संस्थागत प्रसव कें लाभाक कें बारे मे बतेनाय.
  • गर्भवती स्त्रीगणक कें पंजीकरण मे मदद करनाय आ कम सं कम तीन प्रसव पूर्व जांच प्राप्त करनाय, जइ मे टिटनेस कें इंजेक्शन आ आयरन फोलिक एसिड गोलियाक शामिल अछि.
  • जेएसवाई कार्ड आ बैंक खाता सहित आवश्यक प्रमाण पत्न प्राप्त करय मे गर्भवती स्त्रीगणक कें सहायता करनाय.
  • गर्भवती स्त्रीगणक कें लेल अलग-अलग सूक्ष्म जन्म योजना तैयार करनाय, जइ मे ओय निकटवर्ती स्वास्थ्य संस्थाआक कें पहचान करनाय शामिल छै जत ओकरा प्रसव कें लेल भेजल जा सकय छै.
  • गर्भवती स्त्रीगणक कें पूर्व निर्धारित स्वास्थ्य केंद्र पइर एस्कॉर्ट करनाय जत ओर शिशु होबाक अछि तथा ओकर छुट्टी मिलय तइक ओकर साथ रहनाय.
  • टीबी कें खिलाफ बीसीजी टीकाकरण सहित, नवजात शिशुअक कें लेल टीकाकरण की व्यवस्था करनाय.
  • प्रसवोत्तर यात्र कें लेल जन्म कें 7 दिनक कें भीतर स्त्रीगणक सं मिलनाय.
  • स्तनपान सहायता प्रदान करनाय.
  • परिवार नियोजन को बढ़ावा देनाय.

स्रोत: नेशनल हेल्थ मिशन

2.6
टिप्पणीक पठाउ

जेँ चयनित अछि, त उपयोगकर्ता एहि विषय पर टिप्पणी दऽ सकैत छथि ।

Enter the word
Back to top